Chhod Diya Song Lyrics

Chhod Diya Song Lyrics
Song Name: Chhod Diya | Arijit Singh | Kanika Kapoor | Baazaar | Saif Ali Khan,Rohan Mehra,Radhika,Chitrangda
Album:
Artist:
Composer:
Lyricist:
Actors: , , ,
Language:
Genre:
Year:

Chhod Diya | Arijit Singh | Kanika Kapoor | Baazaar | Saif Ali Khan,Rohan Mehra,Radhika,Chitrangda Song Lyrics From

English Lyrics

 

Chhod diya woh raasta
Jis raaste se tum the guzre

Chhod diya woh raasta
Jis raaste se tum the guzre
Tod diya woh aaina
Jis aaine mein tera aks dikhe

Main sheher mein tere tha ghairon sa
Mujhe apna koi na mila
Tere lamhon se, mere zakhmon se
Ab toh main door chala

Rukh na kiya unn galiyon ka
Jin galiyon mein teri baatein ho

Chhod diya woh raasta
Jis raaste se tum the guzre

Main tha musafir raah ka teri
Tujh tak mera tha daayra

Main tha musafir raah ka teri
Tujh tak mera tha daayra
Main kabhi tha mehbar tera
Khanabadosh main ab thehra
Khanabadosh main ab thehra..

Chhoota nahin unn phoolon ko
Jin phoolon mein teri khushboo ho
Rooth gaya unn khwaabon se
Jin khaabon mein tera khaab bhi ho

Kuch bhi na paaya maine safar mein
Hoke safar ka main reh gaya

Kuch bhi na paaya maine safar mein
Hoke safar ka main reh gaya
Kaagaz ko boshida ghar tha
Bheegte baarish mein beh gaya
Bheegte baarish mein beh gaya..

Dekhun nahin uss chandani ko
Jis mein ki teri parchhai ho
Door hoon main inn hawaaon se
Yeh hawaa tujhe chhu ke bhi aayi na ho

Hindi Lyrics

 

छोड़ दिया वो रास्ता
जिस रास्ते से तुम थे गुज़रे
छोड़ दिया वो रास्ता
जिस रास्ते से तुम थे गुज़रे
तोड़ दिया वो आईना
जिस आईने में तेरा अक्स दिखे

मैं शहर में तेरे था गैरों सा
मुझे अपना कोई ना मिला
तेरे लम्हों से
मेरे ज़ख्मों से
अब तो मैं दूर चला

रुख ना क्या उन गलियों का
जिन गलियों में तेरी बातें हो

छोड़ दिया वो रास्ता
जिस रास्ते से तुम थे गुज़रे

मैं था मुसाफ़िर राह का तेरी
तुझ तक मेरा था दायरा
मैं था मुसाफ़िर राह का तेरी
तुझ तक मेरा था दायरा
मैं भी कभी था महबर तेरा
खानाबदोश मैं अब ठहरा
खानाबदोश मैं अब ठहरा

छूता नहीं उन फूलों को
जिन फूलों में तेरी खुशबू हो
रूठ गया उन ख़्वाबों से
जिन ख़्वाबों में तेरा ख़्वाब भी हो

कुछ भी न पाया मैंने सफ़र में
होके सफर का मैं रेह गया
कुछ भी न पाया मैंने सफर में
हो के सफ़र का मैं रह गया

कागज़ का बोशीदा घर था
भींगते बारिश में बेह गया
भींगते बारिश में बेह गया

देखूं नहीं उस चांदनी को
जिस में के तेरी परछाई हो
दूर हूँ मैं इन हवाओं से
ये हवा तुझे छू के भी आयी न हो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *