SAFAR SONG LYRICS – Notebook | Mohit Chauhan 2019

SAFAR SONG LYRICS – Notebook | Mohit Chauhan 2019
Song Name: Notebook: Safar Video | Zaheer Iqbal & Pranutan Bahl | Mohit Chauhan | Vishal Mishra
Album:
Artist:
Composer:
Lyricist:
Actors: ,
Language:
Genre:
Year:

Notebook: Safar Video | Zaheer Iqbal & Pranutan Bahl | Mohit Chauhan | Vishal Mishra Song Lyrics From

Safar Lyrics

Oh bandeya dhoondhe hai kya
Raahein teri hai ghar tera
Chalna wahan, jaana wahan
Khudtak kahin pahunche jahan

Kadam utha aur sath mein ho le
Shehar shehar yeh tujhse dekho bole
Tukar tukar yoon apne naina khole
Zindagi pee le zara

Behti hawaoan ke jaise hain iraade
Udte parindon se seekhi hain jo baatein
Anjani raahon pe koyi main chala

Main safar main hoon
Khoya nahi x (4)

Thoda aage bhadhein maine jaana
Yeh sach hai to kya hai
Uljhe uljhe sab sawaal
Zindhgi hai kya, main kaun hoon
Maine yeh jaana
Mujhe mil hi gaye sab jawab

Dekho na hawa kaanon mein mere kehti kya
Boli wekh Fareeda mitti khuli
Mitti utte Fareeda mitti dulli
Chaar dina da jee le mela duniya
Phir jaane hona kya

Behti hawaoan ke jaise hain iraade
Udte parindon se seekhi hain jo baatein
Anjani raahon pe koyi main chala

Main safar main hoon
Khoya nahi x (2)

Yeh kaisa safar hai jo yoon duba raha
Ja paaun kahin main ya laut ke aa raha
Woh chehre woh aakhein, woh yaadein
Purani mujhe poochhti
Yeh nadiya ka paani bhi behta hai kehta yehi

Main safar main hoon
Khoya nahi x (3)

Safar Lyrics

ओ बन्देया
ढूंढे है क्या राहें तेरी है घर तेरा?
चलना वहाँ, जाना वहाँ
खुद तक कहीं पहुंचे जहां
कदम उठा और साथ में हो ले
शहर-शहर ये तुझसे देखो बोले
टुकुर-टुकुर यूँ अपने नैना खोले
ज़िन्दगी पी ले ज़रा
बहती हवाओं के जैसे हैं इरादे
उड़ते परिंदो से सीखी हैं जो बातें
अनजानी राहों पे कोई, मैं चला
मैं सफ़र में हूँ खोया नहीं
मैं सफ़र में हूँ खोया नहीं
मैं सफ़र में हूँ खोया नहीं
मैं सफ़र में हूँ खोया नहीं
थोड़ा आगे बढ़े
मैंने जाना ये सच है तो क्या है
उलझे-उलझे सब सवाल
ज़िन्दगी है ये क्या?
मैं कौन हूँ? मैंने ये जाना
मुझे मिल ही गए सब जवाब
देखो ना हवा कानों में मेरे कहती क्या
बोली, “ਵੇਖ ਫ਼ਰੀਦਾ ਮਿੱਟੀ ਖੁੱਲ੍ਹੀ”
“ਮਿੱਟੀ ਉੱਤੇ ਫ਼ਰੀਦਾ ਮਿੱਟੀ ਢੁੱਲੀ”
“चार ਦਿਨਾਂ ਦਾ जी ले मेला दुनिया”
“फिर जाने होना क्या?”
बहती हवाओं के जैसे हैं इरादे
उड़ते परिंदों से सीखी हैं जो बातें
अनजानी राहों पे कोई, मैं चला
मैं सफ़र

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *